Read latest updates about "Gas/गैस" - Page 1

  • दही के लाभदायक गुण

    दही के लाभदायक गुण

    - रक्त की कमी, दुर्बलता से पीड़ित व्यक्तियों के लिए दही अमृत है।- भयानक बुखार में दही से दूर न भागें। दही बुखार के विष को तुरंत बाहर निकालता है। हां, इसके लिए पर्याप्त मार्गदर्शन अवश्य लें। - जिसके पेट में कीड़े हों, मोटापा हो, भोजन में स्वाद न आता...

    2018-11-15 09:27:03.0
  • हींग और गुड़ के औषधीय प्रयोग

    हींग और गुड़ के औषधीय प्रयोग

    कहते हैं अगर हींग का सही तरीके से उपयोग किया जाए तो यह कई बीमारियों की दुश्मन है। वैद्यों का मानना है कि हींग को हमेशा भूनकर उपयोग में लाना चाहिए।- एक कप गर्म पानी में एक चम्मच हींग का पाउडर घोलें। इस घोल में सूती कपड़े को भिगोकर पेट के उस हिस्से की...

    2018-11-14 11:27:26.0
  • सौंफ के फायदे और नुकसान

    सौंफ के फायदे और नुकसान

    सौंफ एक स्वादिष्ट और सुगंधित जड़ी बूटी है। जाहिर है इसमें कई तरह के औषधीय गुणों की भी मौजूद भी होती है। यही कारण है कि इसका प्रयोग रसोई घर से लेकर आयुर्वेद तक में किया जाता है। कोई छोटी मोटी बीमारियों और अन्य तरह की समस्याओं के निपटान में सौंफ हमारी...

    2018-11-14 06:54:41.0
  • कितना  संतुलित  है  आपका  आहार

    कितना संतुलित है आपका आहार

    - आपको जितनी भूख है उसका तीन चौथाई हिस्सा ही खाएँ। एक चौथाई भाग पानी के लिए छोड़ दें। खाने के थोड़ी देर बाद ही पानी पीएँ। इससे खाना अच्छे से पचेगा।- भोजन को पचाने में रेशेदार तत्वों का भी विशेष महत्व है। अपने आहार में रेशेदार व रसीले फलों को भी लें।...

    2018-11-12 10:20:24.0
  • कड़ी पत्ता : स्वाद के साथ हर बीमारी का भी निदान

    कड़ी पत्ता : स्वाद के साथ हर बीमारी का भी निदान

    कड़ी पत्ते का उपयोग खास तौर से दक्षिण भारतीय व्यंजनों में किया जाता है, लेकिन मध्यक्षेत्र और महाराष्ट्र में इसका प्रयोग खूब किया जाता है। और हां, कड़ी का स्वाद तो इस कड़ी पत्ते के बिना अधूरा ही लगता है, तभी तो इसे कड़ी पत्ता कहते हैं। – करी पत्ता...

    2018-10-24 05:29:13.0
  • विभिन्न बीमारियों में कारगर है जीरा

    विभिन्न बीमारियों में कारगर है जीरा

    दाल के अलावा कई सब्जियों का स्वाद बढ़ाने के लिए भी जीरे का उपयोग किया जाता है। लेकिन जीरे की उपयोगिता केवल आपके रसोई घर तक ही सीमित नहीं है बल्कि इसका अगर सही तरीके से उपयोग किया जाए तो यह कई हैल्थ प्रॉब्लम्स की छुट्टी कर सकता है। आइए जानते हैं जीरे...

    2018-10-13 08:35:32.0
  • तुलसी की आयुर्वेदिक मान्यता व गुण

    तुलसी की आयुर्वेदिक मान्यता व गुण

    यदि सुबह, दोपहर और शाम को तुलसी का सेवन किया जाए तो उससे शरीर इतना शुद्ध हो जाता है, जितना अनेक चंद्रायण व्रत के बाद भी नहीं होता। तुलसी की गंध जितनी दूर तक जाती है, वहां तक का वातावरण और निवास करने वाले जीव निरोगी और पवित्र हो जाते हैं। तुलसी में...

    2018-10-13 07:14:15.0
  • मक्खन से होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

    मक्खन से होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

    मक्खन के सेवन से वीर्य की अधिक वृद्धि होती है एवं पित्त और वायु के दोष दूर होते हैं। इसके सेवन से पाचनशक्ति बढ़ती है। मक्खन पचने में हल्का है और यह तुरन्त खून (रक्त) बनाता है, मक्खन बवासीर तथा खांसी के रोगों में लाभकारी है। गाय के दूध का मक्खन सबसे...

    2018-10-10 10:25:29.0
  • रोगों से सुरक्षा करे लहसुन

    रोगों से सुरक्षा करे लहसुन

    लहसुन हमारे मसाले का एक प्रमुख हिस्सा है, क्योंकि यह हमारी सेहत के लिए बेहद जरूरी है। हमारे भोजन का स्वाद बढ़ाने वाले लहसुन के अनेक औषधीय गुण भी हैं, जो हमें अनेक बीमारियों से राहत दिलाते हैं।- अगर आपके शरीर में रक्त की कमी है तो आप लहसुन के...

    2018-10-10 09:17:40.0
  • पवनमुक्तासन योग से पाएं पेट की हर समस्या से निजात

    पवनमुक्तासन योग से पाएं पेट की हर समस्या से निजात

    पवनमुक्तासन अपने नाम के अनुरूप है यानी यह पेट से गैस आदि की समस्या को दूर करता है। जिनको पेट में गैस की समस्या होती है उन्हें पवनमुक्तासन करना चाहिये। इस योग की क्रिया द्वारा शरीर से दूषित वायु को शरीर से मुक्त किया जाता है। शरीर में स्थित पवन...

    2018-10-10 06:44:55.0
  • अंजीर बनाता है पाचनतंत्र को मजबूत

    अंजीर बनाता है पाचनतंत्र को मजबूत

    अंजीर पहाड़ों पर खूब पैदा होता है। उष्ण प्रदेशों में भी यह कहीं पाया जाता है। इसमें वर्ष में दो बार फल आते है जून-जुलाई तथा इसके बाद जनवरी मास में। अंजीर के पके हुए फल को शीतल, मधुर, तृष्तिदायक, क्षय, वात, पित्त एवं कफ को नष्ट करने वाला माना जाता...

    2018-10-09 06:09:03.0
  • आयुर्वेद से एसीडिटी का इलाज

    आयुर्वेद से एसीडिटी का इलाज

    आयुर्वेद से एसीडिटी का इलाज- आंवला चूर्ण को एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। एसीडिटी की शिकायत होने पर सुबह-शाम आंवले का चूर्ण लेना चाहिए।- अदरक के सेवन से एसिडिटी से निजात मिल सकती हैं, इसके लिए अदरक को छोटे-छोटे टुकड़ों में...

    2018-09-26 10:30:36.0
Share it
Top
To Top