Read latest updates about "Jaundice/पीलिया" - Page 1

  • आयुर्वेद में नीम के प्रयोग

    आयुर्वेद में नीम के प्रयोग

    नीम से सभी परिचित हैं। भारत भर में यह वृक्ष सहज सुलभ है। आयुर्वेद में नीम के प्रयोग प्रचुर मात्र में मिलते हैं। इसका स्वभाव शीत वीर्य, लघुग्राही, पाक में कटु रसयुक्त, जठराग्नि को मंद करने वाली, वात तृषा, खांसी, ज्वर, अरुचि, कृमि, वृण, पित्त, कफ,...

    2019-02-28 07:14:28.0
  • शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखता चना

    शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखता चना

    चने को आयुर्वेद में शारीरिक स्वास्थ्य और सौंदर्य में लाभकारी माना गया है। माना जाता है कि चना अनके रोगों की चिकित्सा करने में भी सहायक होता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, नमी, चिकनाई, रेशे, कैल्शियम, आयरन व विटामिन्स पाए जाते हैं। रक्ताल्पता,...

    2019-02-20 13:18:50.0
  • बीमारियों में कारगर है गुणकारी मूली और इसके पत्ते

    बीमारियों में कारगर है गुणकारी मूली और इसके पत्ते

    पूरे साल मिलने वाली मूली हमारे भोजन में तो स्वाद बढ़ाती ही है, अपनी अनेक खूबियों के कारण यह कई बीमारियों में भी बेहद कारगर साबित होती है। सालभर मिलने वाली मूली पौष्टिकता से भी भरपूर होती है। प्रति सौ ग्राम मूली में मिलने वाले पोषक तत्वों में...

    2019-02-20 10:59:20.0
  • अजवाइन रोज खाओ, बीमारी से छुटकारा पाओ

    अजवाइन रोज खाओ, बीमारी से छुटकारा पाओ

    आमतौर पर अजवाइन का इस्‍तेमाल नमकीन पूरी, मठ्ठी, नमक पारे और पराठों का स्‍वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। लेकिन अजवाइन के छोटे-छोटे बीजों में ऐसे गुणकारी तत्‍व मौजूद हैं, जिनसे आप अब तक अंजान हैं। इनडाइजेशन या अपच होने पर अकसर मां हमें गरम पानी और...

    2019-01-21 12:23:51.0
  • मेहंदी के चिकित्‍सीय उपयोग

    मेहंदी के चिकित्‍सीय उपयोग

    1. मेहंदी के पत्‍तों में ऐसे तत्‍व पाये जाते हैं, जिनसे खाघ पदार्थों को दूषित करने वाले कीटाणु नष्‍ट हो जाते हैं, इसलिये हाथों में मेहंदी लगाने से कुप्रभावयुक्‍त शक्‍ति भोज्‍य पदार्थों पर अपना कोई प्रभाव नहीं डालती है। 2. उच्‍च रक्‍तचाप के रोगियों...

    2019-01-21 12:04:32.0
  • आयुर्वेदिक इलाज के लिए गिलोय बहुत ही लाभदायक

    आयुर्वेदिक इलाज के लिए गिलोय बहुत ही लाभदायक

    गिलोय की पत्तियों और तनों से सत्व निकालकर इस्तेमाल में लाया जाता है। गिलोय को आयुर्वेद में गर्म तासीर का माना जाता है। यह तैलीय होने के साथ साथ स्वाद में कडवा और हल्की झनझनाहट लाने वाला होता है। गिलोय के गुणों की संख्या काफी बड़ी है। इसमें सूजन कम...

    2019-01-17 08:48:30.0
  • कलौंजी का यह है कमाल...

    कलौंजी का यह है कमाल...

    1. मधुमेह को रोकें : कलौंजी के तेल में अग्नाशयी बीटा-कोशिकाएं का क्रमिक आंशिक उत्थान करता है, कम सीरम इंसुलिन सांद्रता को बढ़ता है और ऊंचा सीरम ग्लूकोज को घटाता है। हर सुबह काली चाय के कप में तेल का आधा चम्मच लें और कुछ हफ्तों में अंतर देखें।2....

    2019-01-10 13:29:27.0
  • इमली पाचन तंत्र के लिए है लाभदायी

    इमली पाचन तंत्र के लिए है लाभदायी

    भारत में काफी पुराने समय से इमली का इस्तेमाल किया जाता रहा है। हालांकि इस फल का मूल देश अफ्रीका है, पर एशियाई देशों से जब यह फल फारस और अरब देशों में गया तो इसे इंडियन डेट कहा गया, जिसकी वजह थी कि यह फल देखने में खजूर के सूखे गूदे की तरह लगता था।...

    2018-12-17 09:44:30.0
  • बुढापा दूर रखने के उपाय

    बुढापा दूर रखने के उपाय

    आंवलो के मौसम मे नित्य प्रातः काल व्यायाम या वॉक करने के बाद दो पके हुए हरे आंवलो को चबा कर खाने से या आंवलो का रस दो चम्‍मच ओर दो चम्‍मच शहद मिला कर पीए। जब आंवलो का मौसम ना रहे तब सूखे आंवलो को कूट पीस कर कपड़े से छान कर बनाया गया आंवलो का चूर्ण...

    2018-11-22 07:03:06.0
  • विभिन्न प्रकार के पशुओं के दूध में छिपे गुण

    विभिन्न प्रकार के पशुओं के दूध में छिपे गुण

    अकसर गाय और भैंस का दूध ही उपलब्ध होता है। उसके गुण भी ज्यादातर लोगों को पता होते हैं। गाय, भैंस के दूध के अलावा अन्य पशुओं का दूध भी पीने योग्य होता है पर उसकी उपलब्धता न होने के कारण बहुत से लोग उन पशुओं से अनभिज्ञ रहते हैं। बकरी, ऊंटनी, भेड़ व...

    2018-11-15 11:14:46.0
  • सेहत के लिए फायदेमंद बथुआ

    सेहत के लिए फायदेमंद बथुआ

    बथुआ एक ऐसा साग है जिसके गुणों से ज्यादातर लोग अनजान हैं। यह सिर्फ सर्दी के मौसम में ही मिलता है और ठंड में इसका सेवन सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन A, आयरन, कैल्शियम, फॉसफोरस और पौटेशियम मौजूद होता है।...

    2018-10-22 07:47:24.0
  • मक्खन से होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

    मक्खन से होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

    मक्खन के सेवन से वीर्य की अधिक वृद्धि होती है एवं पित्त और वायु के दोष दूर होते हैं। इसके सेवन से पाचनशक्ति बढ़ती है। मक्खन पचने में हल्का है और यह तुरन्त खून (रक्त) बनाता है, मक्खन बवासीर तथा खांसी के रोगों में लाभकारी है। गाय के दूध का मक्खन सबसे...

    2018-10-10 10:25:29.0
Share it
Top
To Top