Read latest updates about "Jaundice/पीलिया" - Page 1

  • विभिन्न प्रकार के पशुओं के दूध में छिपे गुण

    विभिन्न प्रकार के पशुओं के दूध में छिपे गुण

    अकसर गाय और भैंस का दूध ही उपलब्ध होता है। उसके गुण भी ज्यादातर लोगों को पता होते हैं। गाय, भैंस के दूध के अलावा अन्य पशुओं का दूध भी पीने योग्य होता है पर उसकी उपलब्धता न होने के कारण बहुत से लोग उन पशुओं से अनभिज्ञ रहते हैं। बकरी, ऊंटनी, भेड़ व...

    2018-11-15 11:14:46.0
  • सेहत के लिए फायदेमंद बथुआ

    सेहत के लिए फायदेमंद बथुआ

    बथुआ एक ऐसा साग है जिसके गुणों से ज्यादातर लोग अनजान हैं। यह सिर्फ सर्दी के मौसम में ही मिलता है और ठंड में इसका सेवन सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन A, आयरन, कैल्शियम, फॉसफोरस और पौटेशियम मौजूद होता है।...

    2018-10-22 07:47:24.0
  • मक्खन से होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

    मक्खन से होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

    मक्खन के सेवन से वीर्य की अधिक वृद्धि होती है एवं पित्त और वायु के दोष दूर होते हैं। इसके सेवन से पाचनशक्ति बढ़ती है। मक्खन पचने में हल्का है और यह तुरन्त खून (रक्त) बनाता है, मक्खन बवासीर तथा खांसी के रोगों में लाभकारी है। गाय के दूध का मक्खन सबसे...

    2018-10-10 10:25:29.0
  • मेहंदी के चिकित्‍सीय उपयोग

    मेहंदी के चिकित्‍सीय उपयोग

    मेहंदी एक ऐसा कुदरती पौधा है, जिसके पत्‍तों, फूलों, बीजों एवं छालों में औषधीय गुण समाए होते हैं। त्‍योहारों और उत्‍सवों के पहले दिन सुहागिन स्‍त्रियों के लिये हथेलियों पर मेहंदी का श्रृंगार, सुंदरता एवं सौम्‍यता का प्रतीक माना जाता है। प्राचीन काल...

    2018-09-17 07:35:11.0
  • गुड़ के बड़े-बड़े गुण

    गुड़ के बड़े-बड़े गुण

    गुड़ गन्ने से तैयार एक शुद्ध, अपरिष्कृत पूरी चीनी है। यह खनिज और विटामिन है जो मूल रूप से गन्ने के रस में ही मौजूद है। यह प्राकृतिक होता है। इसे चीनी का शुद्धतम रूप माना जाता है। गुड़ का उपयोग मूलतः दक्षिण एशिया में किया जाता है। भारत के ग्रामीण...

    2018-09-17 06:58:00.0
  • चुस्त-दुरुस्त रहने के लिए खाएं चना

    चुस्त-दुरुस्त रहने के लिए खाएं चना

    कभी आपने एक घोड़े को देखा है, वो कितनी तेजी से भागता है और चुस्त-दुरुस्त रहता है जानते हैं उसका कारण क्या है घोड़ा सिर्फ चना खाता है। इसलिए अगर आप भी उसके जैसे फुर्तीले बनना चाहते हैं तो चने का सेवन नियमित रूप से करना शुरु कर दीजिए। बस एक मुट्ठी चना...

    2018-09-13 11:20:08.0
  • गिलोय के फायदे बेहतरीन औषधीय गुण

    गिलोय के फायदे बेहतरीन औषधीय गुण

    आयुर्वेद में एक महत्वपूर्ण स्थान है। इसके खास गुणों के कारण इसे अमृत के समान समझा जाता है और इसी कारण इसे अमृता भी कहा जाता है। प्राचीन काल से ही इन पत्तियों का उपयोग विभिन्न आयुर्वेदिक दवाइयों में एक खास तत्व के रुप में किया जाता है। गिलोय की...

    2018-09-10 11:30:45.0
  • अलग-अलग दाल और उनके फायदे

    अलग-अलग दाल और उनके फायदे

    अनेक आम बीमारियां होने का एक कारण है आहार में दाल की कमी. चाहे वो मूंग दाल हो या फिर लोबिया, हर दाल में कई गुण समाये हैं. अरहर की दाल :- इसमें प्रोटीन , पोटैशियम, सोडियम , विटामिन ए, बी 12, कार्बोहायड्रेट मौजूद है।- भांग का नशा उतारने के लिए तुवर...

    2018-09-05 09:28:37.0
  • फूल गोभी के बेशकीमती लाभ

    फूल गोभी के बेशकीमती लाभ

    सभी सब्जियो मे गोभी की सब्जी को बहुत पसंद करते है। फूलगोभी की सब्जी खाने में बहुत स्वादिष्ट होती हैं। इसमें फाइबर, विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट और मिनरल्स भरपूर मात्रा में पाया जाता है। फूलगोभी मैंगनीज, तांबा, लोहा, कैल्शियम और पोटेशियम जैसे खनिजों का एक...

    2018-09-05 08:45:38.0
  • शक्ति का भंडार है गाजर

    शक्ति का भंडार है गाजर

    हर मनुष्य गाजर से परिचित है तथा इसका सेवन करता है। भारत में गाजर तीन रंगों में पाई जाती हैं काली, लाल व पीली। काली गाजर अधिक गुणकारी होती है। लाल गाजर में भी पर्याप्त गुण होते हैं, किन्तु पीली गाजर में अधिक गुण नहीं पाए जाते और न ही यह खाने में...

    2018-08-29 10:01:24.0
  • अनेक बीमारियों में कारगर है तुलसी

    अनेक बीमारियों में कारगर है तुलसी

    ज्यादातर हिंदू परिवारों में तुलसी की पूजा की जाती है। इसे सुख और कल्याण के तौर पर देखा जाता है लेकिन पौराणिक महत्व से अलग तुलसी एक जानी-मानी औषधि भी है, जिसका इस्तेमाल कई बीमारियों में किया जाता है। सर्दी-खांसी से लेकर कई बड़ी और भयंकर बीमारियों में...

    2018-08-27 09:19:11.0
  • पाना है रोगों से छुटकारा तो रोज शंख बजाना

    पाना है रोगों से छुटकारा तो रोज शंख बजाना

    शंख का महत्व धार्मिक दृष्टि से ही नहीं, वैज्ञानिक रूप से भी है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इसके प्रभाव से सूर्य की हानिकारक किरणें बाधक होती हैं। इसलिए सुबह और शाम शंखध्वनिकरने का विधान सार्थक है। सनातन धर्म की कई ऐसी बातें हैं, जो न केवल आध्यात्मिक...

    2018-08-11 06:27:39.0
Share it
Top
To Top