कटहल हमारे लिए है कितना फायदेमंद

कटहल हमारे लिए है कितना फायदेमंद

भारत में सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला फल कटहल विश्व में सबसे बड़ा होता है। कटहल के अंदर कई पौष्टिक तत्व पाये जाते हैं जैसे, विटामिन ए, सी, थाइमिन, पोटैशियम, कैल्शियम, राइबोफ्रलेविन, आयरन, नियासिन और जिंक आदि। इस फल में खूब सारा फाइबर पाया जाता है साथ ही इसमें बिल्कुल भी कैलोरी नहीं होती है। पके हुए कटहल के गूदे को अच्छी तरह से मैश करके पानी में उबाला जाए और इस मिश्रण को ठंडा कर एक गिलास पीने से जबरदस्त स्फूर्ति आती है, यह हार्ट के रोगियों के लिये भी अच्छा माना जाता है।

कटहल के स्वास्थ्य लाभ :

- कटहल में पोटैशियम पाया जाता है जो कि हार्ट की समस्या को दूर करता है क्योंकि यह ब्लड प्रेशर को लो कर देता है।

- इस रेशेदार फल में काफी आयरन पाया जाता है जो कि एनीमिया को दूर करता है और शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है।

- इसकी जड़ अस्थमा के रोगियों के लिये अच्छी मानी जाती है। इसकी जड़ को पानी के साथ उबाल कर बचा हुआ पानी छान कर पियें तो अस्थमा कंट्रोल हो जाएगा।

- इसमें मौजूद सूक्ष्म खनिज और कॉपर थायराइड चयपचय के लिये प्रभावशाली होता है। खासतौर पर यह हार्मोन के उत्पादन और अवशोषण के लिये अच्छा माना जाता है।

- हड्डियों के लिये भी यह फल बहुत अच्छा होता है। इसमें मौजूद मैग्नीशियम हड्डी में मजबूती लाता है तथा भविष्य में ऑस्टियोरोसिस की समस्या से निजात दिलाता है।

- इसमें विटामिन सी और ए पाया जाता है जो कि रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और बैक्टीरियल और वाइरल इंफेक्शन से बचाता है।

- इसमें मौजूद शर्करा जैसे, फ्रक्टोज और सूकरोज तुरंत ऊर्जा देते हैं। इस शर्करा में बिल्कुल भी जमी हुई चर्बी और कोलेस्ट्रॉल नहीं होता।

- यह फल अल्सर और पाचन संबंधी समस्या को दूर करते हैं। इसमें फाइबर होता है जो कि कब्ज की समस्या को दूर करते हैं।

- इसका स्वास्थ्य लाभ आंखों तथा त्वचा पर भी देखने को मिलता है। इस फल में विटामिन ए पाया जाता है जिससे आंखों की रौशनी बढ़ती है और स्किन अच्छी होती है। यह रतौंधी को भी ठीक करता है।

सावधानी : पका कटहल का फल कफवर्धक है, अतः सर्दी-जुकाम, खांसी, अर्जीण आदि रोगों से प्रभावित व्यक्तियों एवं गर्भवती महिलाओं को कटहल का सेवन नहीं करना चाहिए। कटहल खाने के बाद पान खाने से पेट फूल जाता है और अफारा होने का डर रहता है अतः भूल कर भी कटहल के बाद पान न खाएं। दुबले-पतले पित्त प्रकृति वाले व्यक्ति को पका कटहल दोपहर में खाकर कुछ देर आराम करना चाहिए।


Share it
Top
To Top