आयुर्वेद में दूध पीने के तमाम फायदे और कब पीना चाह‍िए दूध

आयुर्वेद में दूध पीने के तमाम फायदे और कब पीना चाह‍िए दूध

दूध को इसके फायदों की वजह से कंप्‍लीट फूड कहा जाता है। दूध में प्रोटीन, फैट, कार्बोहाइड्रेट के साथ ही कई विटामिन और मिनरल भी होते हैं जो अच्‍छी सेहत के लिए जरूरी हैं।इन्‍हीं फायदों की वजह से बच्‍चों को भी डाइट में दूध जरूर देने की सलाह दी जाती है। लेकिन दूध का पूरा फायदा पाने के लिए जरूरी है कि इसे पीने के नियमों की जानकारी भी हो।

दूध को लेकर सबसे पहला सवाल यही आता है कि इसे पीने का सही समय क्‍या है। इसे द‍िन में पीना चाह‍िए या शाम के समय। अगर आप भी दूध पीने के समय को लेकर दुव‍िधा में हैं तो जानें ये बातें- माना जाता है कि दूध का सबसे ज्‍यादा फायदा इसे रात में ही पीने से मिलता है। दूध में सेडेटिव गुण भी होते हैं। रात में दूध पीने से इसमें मौजूद सेरोटोनिन मन को शांत करता है और आप एक अच्छी नींद लेते हैं। - रात में दूध पीने से शरीर को इसमें मौजूद कैल्‍शियम लेने में आसानी होती है। - मसल्स या बॉडी बनाना चाहते हैं तो रात में दूध पीना चाह‍िए। दूध में मौजूद प्रोटीन इससे ज्‍यादा फायदा देता है। अगर वजन बढ़ाना हो तो दिन में दूध पीने की सलाह दी जाती है जबकि वजन कम करने वालों को रात में दूध पीने के लिए कहा जाता है। - दूध के अधिक लाभ के लिए इसे आप अश्वगंधा या फिर त्रिफला के साथ लें ताक‍ि आपको अच्छी नींद आए। इससे आई साइट भी अच्‍छी रहेगी। - अगर दूध को पचाने में दिक्‍कत हो तो इसका सेवन सुबह के समय करना चाहिए। हालांकि एक्सरसाइज के बाद सुबह में दूध पीने से एसिडिटी हो सकती है। - केले और दूध का एक साथ इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से शरीर में टॉक्‍स‍िन जमा होने लगते हैं। - आयुर्वेद के अनुसार दूध को मिल्कशेक के रूप में पीना स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं होता। दूध में खट्टे फल, केला, आम आदि मिलाकर नहीं पीना चाह‍िए।

(दूध को लेकर एक बार अपने चिक‍ित्‍सक की सलाह जरूर लें।)


Share it
Top
To Top